हिण्डी गजल। जगतजित सिंह